Category: Uncategorized

सत्य तो सत्य है, वह भला किसी के मत की कहाँ परवाह करता है?सत्य तो सत्य है, वह भला किसी के मत की कहाँ परवाह करता है?

सत्य तो सत्य है…..जानकर भी कहते हैं कि, असत्य के अलावा कोई पातक नहीं है, सत्य के अलावा कोई सुकृत[...]

READ MOREREAD MORE

स्त्री-वर्ग के सपनों की लगाम भला पुरुष के हाँथों में क्यों हो?स्त्री-वर्ग के सपनों की लगाम भला पुरुष के हाँथों में क्यों हो?

आदिम युग से आज तक कालक्रम का विकास इस कटु-सत्य को प्रतिबिंबित करता है कि, भारतीय समाज में स्त्री-वर्ग एक[...]

READ MOREREAD MORE

धन्य हैं वे लोग जो धर्म एवं न्याय के खातिर आवाज बुलंद करते हैंधन्य हैं वे लोग जो धर्म एवं न्याय के खातिर आवाज बुलंद करते हैं

धन्य हैं वे लोग,जो धर्म (कर्तव्य) एवं न्याय के खातिर आवाज बुलंद करते हैं, विषम परिस्थितियों में भी सत्य के[...]

READ MOREREAD MORE

क्या भारतीय लोकतंत्र में संवाद हाशिए पर जा रहा है?क्या भारतीय लोकतंत्र में संवाद हाशिए पर जा रहा है?

वैचारिक प्रवाह थमता हुआ नजर आ रहा, संवाद हाशिए पर जा रहा है, असहमति की लेखनी कम्पायमान हो रही है…यह[...]

READ MOREREAD MORE

प्रश्न करना चेतना का प्रमाण है लेकिन इस चेतना पर पहरा क्यों ?प्रश्न करना चेतना का प्रमाण है लेकिन इस चेतना पर पहरा क्यों ?

प्रश्न करना चेतना का प्रमाण है ..जो लोग भी उपर्युक्त वर्णित बातों से इत्तेफ़ाक़ रखते हैं उन लोगों को क्षमापूर्वक[...]

READ MOREREAD MORE