सत्य तो सत्य है, वह भला किसी के मत की कहाँ परवाह करता है?सत्य तो सत्य है, वह भला किसी के मत की कहाँ परवाह करता है?

सत्य तो सत्य है…..जानकर भी कहते हैं कि, असत्य के अलावा कोई पातक नहीं है, सत्य के अलावा कोई सुकृत[...]

READ MOREREAD MORE

स्त्री-वर्ग के सपनों की लगाम भला पुरुष के हाँथों में क्यों हो?स्त्री-वर्ग के सपनों की लगाम भला पुरुष के हाँथों में क्यों हो?

आदिम युग से आज तक कालक्रम का विकास इस कटु-सत्य को प्रतिबिंबित करता है कि, भारतीय समाज में स्त्री-वर्ग एक[...]

READ MOREREAD MORE

स्त्री को गृहणी तक सीमित कर देना असीम संभावनाओं का गला घोंटने जैसा हैस्त्री को गृहणी तक सीमित कर देना असीम संभावनाओं का गला घोंटने जैसा है

आपके कार्य को यश मिला…वाह!यशस्वी महिमामंडन ने ही आपको भ्रमित किया, घर के काम के बोझ तले आपका-अपना व्यक्तित्व गौण[...]

READ MOREREAD MORE